सातवीं बार नीतीश

कुँवर आरपी सिंह, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

  आखिरकार बिहार में कल दोपहर में नीतीश कुमार को एनडीए गठबन्धन का सर्व सम्मति से नेता चुना गया और शाम को उन्होंने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का पपत्र सौंपा। आज शाम को  मु.मं. पद की शपथ लेंगे।
बता दें कि बेदाग छवि और निष्पक्ष कार्य शैली के लिए मशहूर नीतीश कुमार का लोहा सहयोगी भाजपा के अलावा विपक्ष भी मानता है। आज देश में मोदी को छोड़कर जहाँ अधिकांश राजनेताओं के बेटा, बेटी, भाई-भतीजे राजनीति में हावी हैं और अगर पार्टी अपनी है तो उसके परिवार के ही लोग रजिस्टर्ड उत्तराधिकारी हैं, लेकिन सुशासन बाबू का मामला इससे बिल्कुल अलग है। परिवार में एक भाई है, जो कृषि देखते हैं। सन्तान के नाम पर बस एक ही गोल्ड मेडिल्स्ट इंजीनियर बेटा है, लेकिन नीतीश ने असली लोहिया की तरह किसी का भी राजनीति में प्रवेश नहीं कराया, न ही किसी ने कभी भी सरकार या प्रशासन में उनके परिवार का हस्तक्षेप सुना। विपक्ष ने भी आज तक कोई इल्जाम लगाया। बिहार में अबकी बारी शायद नीतीश की अन्तिम पारी होगी, लेकिन यह तय है कि यह एक बहुत यादगार होनी वाली है। जय शिवा पटेल संघ की ओर से हम उनके सफल होने और आगे देश की राजनीति में सबसे बडा़ मुकाम हासिल करने की शुभकामनायें देते हैं।
राष्ट्रीय अध्यक्ष जय शिवा पटेल संघ

Related posts

Leave a Comment