छठ व्रत करते है

प्रीति शर्मा “असीम”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

हे! सूर्य देव
प्राणों के वेग
हम प्रणाम करते है।
छठ व्रत करते है।
जीवन को तुम ही,
प्रकाशित करते हो।
चर -अचर जीवन का,
तुम ही संचालन करते हो।
जीवन को,
ज्ञान और आशा से,
परिभाषित करते हो।
नित उठ हम आपका
वंदन करते है।
आभार व्यक्त करते है।
तुम्हें प्रणाम करते है।
छठ व्रत करते है।
उर्जा का तुम स्रोत
किरणों से ,
जगत को करते ओतप्रोत।
नित -नित हम
वंदन करते है।
हम छठ व्रत करने है।
रहे तुम्हारा आशीर्वाद
यहीं शुभ मंगल गान करते है।
छठ व्रत करते है।
 नालागढ़ हिमाचल प्रदेश

Related posts

Leave a Comment