चलो रोशन करें सबके घर

डॉ. राजेश पुरोहित, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

अवध में लौट आये श्रीराम
जपो मन प्यारे जय श्रीराम
माता सीता भाई लक्ष्मण से
स्वागत करो सब अंतर्मन से
    घी के दीये की थाल सजा
    देहरी का आकर दीप लगा
    आंगन उजियारा हो सबका
    आ दीपशिखा सा बढ़ता जा
अंधियारे से लड़ना सीखो
आगे कदम बढ़ाना सीखो
मंजिल दूर नहीं है  तुम से
थोड़ा थोड़ा चलना सीखो
    दुल्हन सी सजी अयोध्या
    कितनी मनोहर लगती है
    रिश्तों की ये बगिया तो
    प्रेम , प्यार से सजती है
मिष्ठानों की भर भर थाली
चुन्नू, मुन्नू डेविड ने खाली
अरमानों के पंख लगाकर
उड़कर चली आई दीवाली
     आस का दीपक जलाकर
     स्नेह की बाती सजाकर
    प्रेम से फिर दीप बनाकर
   चलो रोशन करें सब के घर
भवानीमंडी, राजस्थान

Related posts

Leave a Comment