जनपद में हुआ आईसीडीएस अनुपूरक पोषाहार कार्यक्रम की नवीन व्यवस्था का शुभारम्भ

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। आईसीडीएस अनुपूरक पोषाहार कार्यक्रम की नवीन व्यवस्था का शुभारम्भ जनपद की बाल विकास परियोजना शहर में जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा किया गया। उक्त अवसर प्रभारी बाल विकास परियोजना अधिकारी शहर हसीबा बानों तथा मुख्य सेविका सीमा चौधरी एवं संतोष द्वारा ड्राइ राशन वितरण में सहयोग किया गया। आंगनबाडी केन्द्र गाजावली, आनन्दपुरी, पटेलनगर, किदवईनगर, आर्यपुरी एवं लद्दावाला में कोटेदार की दुकार से गेंहू तथा चावल का उठान आंगनबाडी कार्यकत्रियो द्वारा करते हुए राशन का वितरण विभिन्न श्रेणी के लाभार्थी समहू को किया गया। राशन की नवीन व्यवस्था के अन्तर्गत शहरी क्षेत्र में कोटेदार से प्राप्त राशन को जिसमें गेंहू व चावल सम्मिलित हैं, आंगनबाडी कार्यकत्रियो द्वारा लाभार्थियो को पहुचाया जायेगा। साथ ही ग्रामीण क्षेत्रो में यह कार्य स्वयं सहायता समहू द्वारा कोटेदार से उठान किये गये राशन का पैकेट बनाकर आंगनबाडी केन्द्र के लाभाथिर्यो को वितरित कराया जायेगा। योजना के अन्तर्गत नवीन ड्राई राशन में वितरित किये जाने वाले मुख्य खाद्य पदार्थ गेंहू, चावल, दाल, देशी घी एवं स्किम्ड मिल्क पाउडर है। एफसीआई से प्राप्त गेहूं व चावल का उठान कोटेदार के द्वारा किया जायेगा, जिसे शहरी क्षेत्र में आंगनबाडी कार्यकत्री प्राप्त करेंगी तथा ग्रामीण क्षेत्रो में स्वयं सहायता समूह द्वारा उठान किया जायेगा तथा पैकेट तैयार किया जायेगा। ग्रामीण क्षेत्रो में पैकिंग एवं दाल खरीद का कार्य स्वयं सहायता समूह द्वारा किया जा रहा है। दिनांक       09.11.2020 को ग्राम सभा बरला विकास खण्ड पुरकाजी में नवीन व्यवस्था के अन्तर्गत ड्राई राशन का वितरण का शुभारम्भ खण्ड विकास अधिकारी एवं प्रभारी बाल विकास परियोजना अधिकारी द्वारा किया गया।

आंगनबाड़ी केन्द्रों के लाभार्थियों को11-14 वर्ष की स्कूल न जाने वाली किशोरियां (स्कीम फार एडोलेसेन्ट गर्ल्स) गुुलाबी 2 किलो 1 किलो 0.75 किलो 450 ग्राम 750 ग्राम, गर्भवती/धात्री महिलायेें पीला 2 किलो 1 किलो 0.75 किलो 450 ग्राम 750 ग्राम, 6 माह से 3 वर्ष के बच्चे आसमानी नीला 1.5 किलो 1 किलो 0.75 किलो 450 ग्राम 400 ग्राम, 3 वर्ष से 6 वर्ष के बच्चे हल्का हरा 1.5 किलो 1 किलो – – 400 ग्राम, अतिकुपोषित बच्चे लाल 2.5 किलो 1.5 किलो 0.50 किलो 900 ग्राम 750 ग्राम के अनुसार ड्राई राशन का वितरण किया जाना है।
गेहूं एवं चावल कोटेदार से सीधे लोकली मैप्ड निकटमत आंगनबाडी कार्यकत्री द्वारा उठाया जायेगा तथा सीधे आंगनबाडी केन्द्र ले जाकर पूर्व मापित डिब्बा या बर्तन से निर्धारित मात्रा लाभार्थी को लाभार्थी के बैग या बर्तन दी जायेगी। नवीन राशन व्यवस्था का उद्देश्य कुपोषण को दूर करना, सामुदायिक सहभागिता को बढावा देना एवं राशन वितरण व्यवस्था में पारदर्शिता लाना है।

Related posts

Leave a Comment