सजीव चित्रण है डॉ. पीपी सिन्हा अभिनन्दन ग्रंथ

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

संपादक अतुल मल्लिक ‘अनजान’ के श्रेष्ठ सम्पादन में प्रकाशित डॉ. पीपी सिन्हा अभिनन्दन ग्रंथ एक सजीव चित्रण है। 392 पृष्ठों से सजा आकर्षक मुखपृष्ट सहित डॉ. पीपी सिन्हा के व्यक्तित्व व कृतित्व का पूरा चलचित्र सा आभास कराता है यह सुंदर अभिनन्दन ग्रंथ। देशभर के कलमकारों के विचार व प्रतिष्ठित महानुभावों के शुभकामना संदेश एवं डॉ. पीपी सिन्हा की तमाम रचनाएं व ढेर सारे रंगीन छायाचित्र संग्रहित हैं। युवा संपादक अतुल ने ग्रंथ के निर्माण में काफी मेहनत की है। कहीं भी प्रूफ की गलतियां देखने को नहीं मिलती। वहीं आकर्षक सजावट से ग्रंथ की प्रस्तुति काबिले तारीफ है। इसके लिए संपादक व उनकी पूरी टीम बधाई की पात्र है।

नेकदिल इंसान डॉ. पीपी सिन्हा के सम्मान में प्रकाशित अभिनन्दन ग्रंथ इस बात का सबूत है कि डॉ. पीपी सिन्हा की कलम का प्रकाश सम्पूर्ण धरा को प्रकाशित कर रहा है। एक ओजस्वी वक्ता, कलम के धनी डॉ पीपी सिन्हा अपनी रचनाओं के माध्यम से मानवजाति की वकालत करते नजर आते हैं। उनकी रचनाओं में मानवी पीड़ा स्पष्ट झलकती है।

पुस्तक – डॉ. पीपी सिन्हा अभिनन्दन ग्रंथ
संपादक – अतुल मल्लिक अनजान
प्रकाशन वर्ष – 2020

ग्राम रिहावली, डाक तारौली गुर्जर, फतेहाबाद, आगरा, उ. प्र.

Related posts

Leave a Comment