सीएमएस में आयोजित विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 21वें अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन का तीसरा दिन, यूपी के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा एवं कानून व न्यायमंत्री बृजेश पाठक ने बढ़ाई गरिमा

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल द्वारा आयोजित विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 21वें अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन का तीसरा दिन आज देश-विदेश की प्रख्यात हस्तियों यूपी के उप मुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा एवं कानून व न्यायमंत्री बृजेश पाठक, हैती के प्रधानमंत्री जीन हेनरी सिएन्ट आदि की गरिमामय ऑनलाइन उपस्थिति एवं विभिन्न देशों के न्यायविद्वों व कानूनविद्वों की परिचर्चा से ओतप्रोत रहा। इसके अलावा सम्मेलन के तीसरे दिन आज सीएमएस संस्थापक डा. भारती गाँधी ने एलिन वेयर फाउण्डर एवं ग्लोबल कोआर्डिनेटर पीएनएनडी स्विटजरलैण्ड को नेल्सन मंडेला न्यूक्लियर फ्री फ्यूचर अवार्ड, जापान की शान्ति संस्था ब्याको शिंको काई की चेयरपरसन मसामी सायोन्जी को लाइफटाइम एचीवमेन्ट अवार्ड फॅार प्रमोटिंग वर्ल्ड पीस, रूस के ह्यूमैनिटीज ऑफ द फाइनेन्सियल यूनिवर्सिटी के हेड ऑफ द डिपार्टमेन्ट डा. नताल्या ओरेखोवस्काया को ग्लोबल एजूकेशन एक्सीलेन्स अवार्ड एवं पेरू सुपीरियर कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति डा. जोसफा वी इजागा पेलग्रिन को लार्ड बुद्धा अवार्ड से वर्चुअल प्रजेन्टेशन के माध्यम से सम्मानित किया गया।

इस ऐतिहासिक सम्मेलन के तीसरे दिन प्रातःकालीन सत्र का उद्घाटन करते हुए बतौर मुख्य अतिथि डा. दिनेश शर्मा ने कहा कि इस अन्तर्राष्ट्रीय मुख्य न्यायाधीश सम्मेलन के माध्यम से सीएमएस सारे विश्व के बच्चों के भविष्य को सुरक्षित व सुखमय करने का अनूठा अभियान चला रहा है, जिसकी जितनी भी प्रशंसा की जाए, कम होगी। हमारा भी यह कर्तव्य बनता है कि भावी पीढ़ी हित में एवं समस्त मानवता के कल्याण में अपना यथासंभव योगदान करें एवं एकता, शान्ति व भाईचारे के संदेश को पूरे विश्व में प्रचारित-प्रसारित करने में सहयोग करें। आस्ट्रेलिया के इण्टरनेशनल एसोसिएशन ऑफ जजेज के प्रेसीडेन्ट न्यायमूर्ति जीटी पेगोन ने की-नोट एड्रेस देते हुए एक स्वतन्त्र ज्यूडिशियरी की वकालत की जो कानून की रक्षा कर सके और किसी के दबाब में न आये। उन्होंने कहा कि सभी संस्थाओं को जजों की इस स्वतन्त्रता का सम्मान करना चाहिए। भूटान हाईकोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति  दासो लोबजंग रिंजिंग यार्गे ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना वायरस ने विश्व की सामाजिक एवं आर्थिक गतिविधियों पर नकारात्मक प्रभाव डाला है। आज हम एक इण्टर-कनेक्टेड विश्व में रहते हैं, जहाँ ग्लोबल गवर्नेन्स के माध्यम  से ही हम कोरोना जैसी भीषण परिस्थितियों से मुकाबला कर सकते हैं क्योंकि एकता में ही शक्ति है। जापान की शान्ति संस्था ब्याको शिंको काई की चेयरपरसन मसामी सायोन्जी ने कहा कि जहाँ एक ओर अन्तर्राष्ट्रीय कानून की आवश्यकता है, तो वहीं व्यक्तिगत स्वतन्त्रता को भी हमें महफूज रखना है। हमें एक विशिष्ष्ट सामाजिक विचारधारा और भविष्य की समझ की जरूरत है। ग्लोबल गवर्नमेन्स ही वह व्यवस्था है जो हमें वैश्विक चुनौतियों से जूझने की क्षमता प्रदान करती है।

सीएमएस संस्थापक डा. भारती गाँधी ने कहा कि सिटी मोन्टेसरी स्कूल अपनी स्थापना के समय से ही सम्पूर्ण विश्व में एकता व शान्ति का अलख जगा रहा है। जय जगत एवं वसुधैव कुटम्बकम की भावना ही हमारी ताकत है। हमारा मानना है कि हमारी साँस्कृतिक विरासत वसुधैव कुटुम्बकम की भावना सिर्फ देश में ही नहीं अपितु पूरे विश्व में एकता व शान्ति स्थापना में सक्षम है। वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को सारे विश्व में पहुँचाने हेतु सिटी मोन्टेसरी स्कूल दृढ़-संकल्पित है।

सम्मेलन के तीसरे दिन के सायंकालीन सत्र का उद्घाटन बतौर मुख्य अतिथि बृजेश पाठक ने किया। इस अवसर पर अपने संबोधन में श्री पाठक ने कहा कि मैं सिटी मोन्टेसरी स्कूल ने इस सम्मेलन के माध्यम से माध्यम लखनऊ व प्रदेश का गौरव सारे विश्व में बढ़ाया है, अपितु विश्व के ढाई अरब बच्चों के सुरक्षित भविष्य की आवाज उठाने हेतु दुनिया भर के न्यायविद्वों व कानूनविद्वों को एक बार फिर से एक मंच पर एकत्रित होने का अवसर प्रदान किया है। मेरा विश्वास है कि यह सम्मेलन विश्व एकता, विश्व शान्ति व विश्व बन्धुत्व की दिशा में अवश्य ही मील का पत्थर साबित होगा। अन्तर्राष्ट्रीय मुख्य न्यायाधीश सम्मेलन के संयोजक डा. जगदीश गाँधी ने कहा कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 51 पर आधारित यह ऐतिहासिक सम्मेलन पूरी तरह से विश्व एकता, विश्व शान्ति एवं विश्व के ढाई अरब से अधिक बच्चों के सुन्दर एवं सुरक्षित भविष्य को समर्पित है। बच्चे एक सुरक्षित भविष्य चाहते हैं। अतः एक ऐसी व्यवस्था का निर्माण होना चाहिए जिससे विश्व में न्याय, एकता व शान्ति स्थापित हो सके, शिक्षा और स्वास्थ्य पर ध्यान दिया जाये, बच्चों पर अत्याचार और अन्याय समाप्त हो, सबको चिकित्सा का लाभ मिल सके और युद्ध समाप्त हो। डा. गाँधी ने जोर देते हुए कहा कि जब तक हम इन विभिन्नताओं में एकता नहीं स्थापित करते, हम शान्ति व सुख से नहीं रह सकते। डा. गाँधी ने बताया कि आज की परिचर्चा में माल्टा के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति विन्सेन्ट ए डी गैटानो, अफगानिस्तान सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति सैयद यूसुफ हालिम, मंगोलिया सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश न्यायमूर्ति टुंगलग डेक्वाड्रोज, यूक्रेन सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति वेस्वोलोड नीजीव, घाना सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश न्यायमूर्ति जट्र्रूड टोकोर्नू, इजरायल सुप्रीम कोर्ट की न्यायाधीश न्यायमूर्ति डफने बराक इरेज, तंजानिया कोर्ट के प्रेसीडेन्ट न्यायमूर्ति सिल्वेन ओर, कोस्टारिका के क्रिमिनल कोर्ट की न्यायाधीश न्यायमूर्ति रोसा मारिया एकान, पेरू सुपीरियर कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति डा. जोसफा वी इजागा पेलग्रिन समेत देश-विदेश के अनेक न्यायविद्वों व कानूनविद्वों ने अपने सारगर्भित विचार व्यक्त किये।

सीएमएस के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी हरि ओम शर्मा ने बताया कि कल 9 नवम्बर, सोमवार को इस ऐतिहासिक सम्मेलन का समापन दिवस है। सम्मेलन के आखिरी दिन 9 नवम्बर को प्रातःकालीन सत्र का उद्घाटन मुख्य अतिथि प्रो. बलराज चौहान, वाइस-चांसलर धर्मशास्त्र नेशनल लाॅ यूनिवर्सिटी जबलपुर मध्य प्रदेश द्वारा प्रातः 10 बजे, अपरान्हः सत्र का उद्घाटन प्रो. आलोक कुमार राय वाइस चांसलर लखनऊ विश्वविद्यालय द्वारा अपरान्हः 3 बजे एवं सायंकालीन सत्र का उद्घाटन मुख्य अतिथि प्रो. सुबीर के. भटनागर वाइस चांसलर डा. राम मनोहर लोहिया नेशनल लाॅ यूनिवर्सिटी लखनऊ द्वारा सायं 7.00 बजे किया जायेगा।

विदित हो कि सिटी मोन्टेसरी स्कूल के तत्वावधान में विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 21वें अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन 6 से 9 नवम्बर तक ऑनलाइन किया जा रहा है, जिसमें विभिन्न देशों के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, संसद के अध्यक्ष, न्यायमंत्री, संसद सदस्य, इण्टरनेशनल कोर्ट के न्यायाधीश एवं विश्व प्रसिद्ध शान्ति संगठनों के प्रमुख समेत 63 देशों के मुख्य न्यायाधीश, न्यायाधीश व कानूनविद् ऑनलाइन अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं।

Related posts

Leave a Comment