वोट हमारा राज तुम्हारा, नहीं चलेगा नहीं चलेगा

कूर्मि कौशल किशोर आर्य, शिक्षा वाहिनी सामाचार पत्र।  

100 में 90 प्रतिशत हमारी आबादी,
फिर कैसे चलेगी शासन तुम्हारी।
मुट्ठी भर 10 प्रतिशत के लोगों ने बहुजनों को फंसाया है,
कुछ लोगों को टूकडें फेंक कर मिलकर मौज मनाया है।
सदियों पहले किये जिसने विभिन्न अन्याय व अत्याचार,
उन्हें ही हमारा बहुजन समाज बना रहा है तारनहार।
कब जागोगे ये भारत के मेहनतकश, मूलनिवासी समाज
क्या ऐसे ही अपनी संतानों के संहार कराओगे।
उठो! जागो! निकलों अपने दहलीज से,
मिलकर 6743 जातियों को गले लगा लो करीब से।
शंखनाद कर दो अब तो भारत के बहुजनों,
वोट है 90 प्रतिशत हमारा पर राज है 10 प्रतिशत वाले का।
पर अब ऐसा नहीं चलेगा नहीं चलेगा,
बिल्कुल ही नहीं चलेगा ।
जन-जन से आनी चाहिए आवाज,
एक और संगठित हो जाओ अबकी बार।
मिलकर संगठित हो जाएंगे,
सत्ता पर अधिकार कर जाएंगे।
फिर से इतिहास दोहराएंगे,
अपना गौरवशाली स्वाभिमान लौटाएंगे।
नहीं पड़ेंगे अब तो किसी साजिशों में,
अबकी बार विजय पताका लहराएंगे।
गर बेईमान और गद्दारों ने फन फैलायें तो,
अबकी बार उनके फन भी कुचल दिये जाएंगे।
ले के रहेंगे अब हम तो अपने अधिकार,
सभी जगह बनाएंगे हम अब अपनी सरकार।
बहुत सह लिया अब न सहेंगे अन्याय व अत्याचार,
बनाएंगे अब तो हम अपनी सरकार, अपनी सरकार।
उठो! जागो! भारत के 90ः बहुजन सुरवीरों,
जब्त कर दो उनकी जमानत जिसने हमें डूबोयें हैं।
चंद मुट्ठी भर 10ःलोगों ने हमारेही वोटों से मौज उडाये हैं

संस्थापक राष्ट्रीय समता महासंघ व सह राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अखिल भारतीय कूर्मि क्षत्रिय महासभा 

Related posts

Leave a Comment