रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया CMS द्वारा आयोजित ‘विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 21वें अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन’ का ऑनलाइन  शुभारम्भ, कहां- भावी पीढ़ी को सुरक्षित व सुखमय भविष्य प्रदान करना हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल द्वारा आयोजित विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 21वें अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन का आज ऑनलाइन शुभारम्भ हुआ। ऑनलाइन समारोह में मुख्य अतिथि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एवं लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया ने अपनी वर्चुअल उपस्थिति से समारोह की गरिमा को बढ़ाया। इस अवसर पर मेयर संयुक्ता भाटिया ने त्रिनिदाद एवं टोबैगो के पूर्व राष्ट्रपति एन्थोनी थाॅमस अकीनास कार्मोना को रक्षा मंत्रीनलाइन प्रजेन्टेशन द्वारा लखनऊ शहर की चाबी भेंटकर सम्मानित किया। इससे पहले सीएमएस संस्थापक एवं अन्तर्राष्ट्रीय मुख्य न्यायाधीश सम्मेलन के आयोजक डा. जगदीश गाँधी एवं सीएमएस कानपुर रोड कैम्पस की वरिष्ठ प्रधानाचार्य डा. विनीता कामरान ने मुख्य अतिथि, विशिष्ट अतिथि एवं देश-विदेश के अन्य गणमान्य हस्तियों का हार्दिक स्वागत अभिनंदन किया।

इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि  राजनाथ सिंह ने कहा कि भावी पीढ़ी को सुरक्षित व सुखमय भविष्य प्रदान करना हमारी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए और इस उद्देश्य हेतु विभिन्न देशों के न्यायवि व कानूनविद् का आगे आना एक अहम कदम है, जो एक नवीन विश्व व्यवस्था में क्रान्तिकारी कदम साबित होगा। श्री सिंह ने कहा कि बच्चों के आधिकारों व विश्व व्यवस्था के महत्वपूर्ण मुद्दे पर आवाज उठाने के लिए मैं सीएमएस संस्थापक डा. जगदीश गाँधी को हार्दिक बधाई देता हूँ। लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि इस  सम्मेलन के माध्यम से सीएमएस विश्व के बच्चों के लिए एक नया भविष्य निर्मित कर रहा है, साथ ही शिक्षा के क्षेत्र में भी नये आयाम स्थापित कर रहा है। इससे पहले राष्ट्र गान ‘वन्दे मातरम’ एवं स्कूल प्रार्थना ‘हे मेरे परमात्मा’ के सुमधुर प्रस्तुतिकरण से कार्यक्रम का शुभारम्भ हुआ। इस अवसर पर सीएमएस कानपुर रोड कैम्पस द्वारा विभिन्न प्रकार के स्कूल बैण्ड का प्रस्तुतिकरण एवं ताईवान के शान्ति संगठन फेडरेशन ऑफ वल्र्ड पीस एण्ड लव (फोपाल) के सदस्यों द्वारा शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रमों का ऑनलाइन प्रस्तुतिकरण विशेष सराहनीय रहा।

समारोह में त्रिनिदाद एवं टोबैगो के पूर्व राष्ट्रपति एन्थोनी थाॅमस अकीनास कार्मोना ने कहा कि विश्व के ढाई अरब बच्चों को सुरक्षित भविष्य का अधिकार दिलाना एक ऐसा मुद्दा है, जो विश्व में एकता, शान्ति व सौहार्द की स्थापना से ही संभव है। अतः प्रभावशाली अन्तर्राष्ट्रीय कानून व्यवस्था विश्व समुदाय के लिए एक अनिवार्य आवश्यकता है। इस अवसर पर काउन्सिल फाॅर द इण्डियन स्कूल सर्टिफिकेट एक्जामिनेशन (सीआईएससीई), नई दिल्ली के चीफ एक्जीक्यूटिव एवं सेक्रेटरी गैरी अराथून ने सम्मेलन की अभूतपूर्व सफलता की कामना करते हुए कहा कि यह सम्मेलन नवीन विश्व व्यवस्था की स्थापना में मील का पत्थर साबित होगा।

इस अवसर पर सीएमएस संस्थापक डा. जगदीश गाँधी ने सम्मेलन में प्रतिभाग कर रहे सभी 63 देशों के गणमान्य हस्तियों के प्रति हार्दिक आभार ज्ञापित करते हुए कहा कि विश्व के न्यायमूर्तियों ने आज यह अहसास करा दिया है कि एकता, शान्ति व बच्चों के सुरक्षित भविष्य हेतु वे कोई कोर-कसर बाकी नहीं रखेंगे। डा. गाँधी ने कहा कि सीएमएस के 56000 छात्रों की अपील पर 63 देशों के न्यायविदों, कानूनविदों व अन्य गणमान्य हस्तियों जैसे राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, संसद अध्यक्ष आदि का इस सम्मेलन में ऑनलाइन प्रतिभाग करना न सिर्फ सीएमएस के लिए अपितु लखनऊ वासियों के लिए गर्व का विषय है।

विदित हो कि सिटी मोन्टेसरी स्कूल के तत्वावधान में ‘विश्व के मुख्य न्यायाधीशों के 21वें अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन’ का आयोजन 6 से 9 नवम्बर तक ऑनलाइन किया जा रहा है, जिसमें विभिन्न देशों के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, संसद के अध्यक्ष, न्यायमंत्री, संसद सदस्य, इण्टरनेशनल कोर्ट के न्यायाधीश एवं विश्व प्रसिद्ध शान्ति संगठनों के प्रमुख समेत 63 देशों के मुख्य न्यायाधीश, न्यायाधीश व कानूनविद् आॅनलाइन अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं।

Related posts

Leave a Comment