करवाचौथ (मुक्तक संसार)

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

हाथों पर मेहंदी लगाई है,
माथे पर सिंदूर की रौनकता छाई है |
करवाचौथ को निकलेगा चाँद नभ में –
पिया हित दीर्घजीवी होने की रीति निभाई है ||

सदियों पुरानी संस्कृति हमारी,
जग में भारत भू की बात है न्यारी |
तीज-त्यौहारों, लोक पर्वों से सजी माँ भारती –
करवाचौथ की लोक कथा है बड़ी प्यारी ||

सुहागिनों उठो- जागो भोर – भोर,
अपना घर-आंगन लो बुहार |
पावनपर्व निभाने की पावन घड़ी आई है –
सुहागिनों गाओ मिलकर गीत मधुर ||

ग्राम रिहावली, डाक तारौली गुर्जर, फतेहाबाद, आगरा

Related posts

Leave a Comment