जीने का सलीका

राजीव डोगरा “विमल”, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

तुम शब्दों की बात करते हो
हम तुम्हें
निशब्द ही घायल कर देंगे।
तुम खूबसूरती की बात करते हो
हम तुम्हें
सादगी से ही कायल कर देंगे।
तुम हमें आधुनिकता के
बोझ तले दबाते आये हो
हम तुम्हें
अपनी परंपराओं के बल पर ही
उठ कर दिखा देंगे।
तुम हमें दिखावे में
पनपनमा सिखाते हो
हम तुम्हें
सादगी से ही तुम्हें जीना सिखा देंगे।

युवा कवि लेखक व भाषा अध्यापक गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा (कांगड़ा) हिमाचल प्रदेश

Related posts

Leave a Comment