जुगनू

अ. कीर्ति वर्द्धन, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

जुगनू रात भर चमकते है
अपनी उपस्थिति जताते हैं
मगर सूर्य के सम्मुख
सभी निस्तेज हो जाते हैं|
बहुत सारे जुगनू मिलकर भी
एक दीपक नहीं बन पाते हैं
भटके हुए किसी पथिक को
मंजिल नहीं दिखा पाते हैं |
जुगनू बनकर खुद की खातिर
अक्सर लोग जिया करते हैं
निज स्वार्थ में जीने वाले
मंजिल नहीं बना करते हैं |
जो सूरज की किरणों सा फैले
वह तम दूर किया करते हैं
होते पथिक राह के लेकिन
मंजिल बन जाया करते हैं |

मुज़फ्फरनगर, उत्तर प्रदेश

Related posts

Leave a Comment