देशभर में पहचान बना चुकी है संस्था बृजलोक अकादमी

शि.वा.ब्यूरो, आगरा। साहित्यिक संस्था बृजलोक साहित्य, कला, संस्कृति अकादमी के सौजन्य से पावनपर्व गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर एक सम्मान समारोह का आयोजन किया गया । संस्था को देशभर से सम्मानार्थ प्रविष्टियां प्राप्त हुई थीं। प्रविष्ठियां ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों माध्यमों से स्वीकार की गई थीं। सभी प्रविष्टि भेजने वाले सम्मानित कलमकारों को प्रशस्ति पत्र व संस्था परिचय पत्र ससम्मान पंजीकृत डाक व कोरियर से प्रेषित किए गए हैं ।

संस्था के पदाधिकारियों द्वारा चुने गए विशिष्ट कलमकारों को सत साहित्य भी प्रदान किया गया है । सम्मानित होने वाले साहित्यकार हैं –

डा. पीसी कौंडल (हिमाचल प्रदेश), डॉ. सत्यनारायण चौधरी (राजस्थान), डॉ.कृष्णमणि चतुर्वेदी मैत्रेय ( उत्तर प्रदेश), डॉ.आनन्द सुमन ( उत्तराखंड), डॉ.नवीन शंकर पाण्डेय ( उत्तर प्रदेश), दिनेश परुथी (महाराष्ट्र), रामनारायण साहू राज (छत्तीसगढ़), अनिल द्विवेदी तपन (उत्तर प्रदेश), सेवा सदन प्रसाद (महाराष्ट्र), डॉ. नीलाचल मिश्रा (उड़ीसा), विजयानंद विजय (बिहार), डॉ. शकुंतला देवी राणा (हिमाचल प्रदेश), राजू कुमार राजवीर (छत्तीसगढ़), नंदलाल मणि त्रिपाठी पीतांबर (उत्तर प्रदेश), श्रीमती आशा सिंह (उत्तर प्रदेश), डॉ. सुरेंद्र प्रताप सिंह (उत्तर प्रदेश), डॉ. सिकंदर लाल (उत्तर प्रदेश) आदि ।

बृजलोक साहित्य, कला, संस्कृति अकादमी द्वारा आयोजित यह वर्ष 2021 का तृतीय कार्यक्रम था । आगामी कार्यक्रम पावन पर्व दीपावली पर आयोजित होगा और वर्ष का अंतिम कार्यक्रम रहेगा । उक्त कार्यक्रम के लिए देशभर से प्रविष्टियां स्वीकार की जा रही हैं । संस्था अध्यक्ष मुकेश कुमार ऋषि वर्मा ने यह जानकारी प्रदान की । ग्रामीण क्षेत्र से संचालित व एक ऐसे गांव से जो प्रत्येक दृष्टि से पिछड़ा है, संस्था का संचालन काफी कठिन कार्य है। साहित्यिक गतिविधियों के नियमित संचालन के लिए ही ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है, क्योंकि संस्था के पास संसाधनों का अभाव है । परंतु संतुष्टि का विषय है कि संस्था ने देश भर में अपनी एक अलग पहचान बनाई है ।

Related posts

Leave a Comment