विश्व स्तनपान सप्ताह आज से, जन्म के पहले घंटे में जरूर पिलायें माँ का पहला पीला गाढ़ा दूध 

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर का सबसे ज्यादा असर बच्चों पर पड़ने की चर्चा के बीच यह भी जानना जरूरी है कि जो माताएं बच्चे को सही समय पर और सही तरीके से भरपूर स्तनपान कराती हैंउन्हें बच्चे को लेकर बहुत चिंता करने की  जरूरत नहीं होती है । मां के दूध की अहमियत सर्वविदित हैयह बच्चे को रोगों से लड़ने की ताकत प्रदान करने के साथ ही उसे आयुष्मान भी बनाता है । कोरोना ही नहीं बल्कि कई अन्य संक्रामक बीमारियों से मां का दूध बच्चे को पूरी तरह से महफूज बनाता है । इसलिए स्तनपान के फायदे को जानना हर महिला के लिए बहुत ही जरूरी है । इसके प्रति जागरूकता के लिए ही हर साल एक से सात अगस्त तक विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है । स्तनपान को बढ़ावा देने के लिए ही इस साल इस सप्ताह की थीम-स्तनपान सुरक्षा की जिम्मेदारीसाझा जिम्मेदारी’ तय की गयी है ।

जिला कार्यक्रम अधिकारी राजेश गौड़ ने बताया विश्व स्तनपान सप्ताह के संबंध में आदेश प्राप्त हो चुके हैं। कोविड के चलते कार्यक्रम बड़े स्तर पर कराना संभव नहीं है लेकिन स्तनपान सप्ताह के दौरान आंगनबाड़ी कार्यकर्ता गृह भ्रमण के द्वारा माँ और समुदाय को स्तनपान के फायदे बताएंगी। वह गृह भ्रमण के दौरान ऐसे घरों को प्राथमिकता देंगी जहाँ नवजात शिशु होंछह माह की आयु पूरी कर चुके बच्चे हों और दो वर्ष से कम आयु के कुपोषित या बीमार बच्चे हों। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता नवजात शिशुओं की माँ और परिवार के सदस्यों को यह सन्देश प्रमुखता से देंगी कि शिशु को छह माह तक केवल स्तनपान ही कराएं।
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर धात्रीमाताओं को पानीडिब्बाबंद दूध या फिर बोतल का प्रयोग बिल्कुल न करने की सलाह देंगी। क्योंकि इससे दस्त या अन्य संक्रमण हो सकता है और शिशु कुपोषित हो सकता है। सभी धात्री माताएं सावधानी अपनाते हुए कोविड के दौरान भी अपने बच्चों को स्तनपान जारी रखें, क्योंकि यह सबसे सुरक्षित और पोषित विकल्प है। इसके साथ ही साफ़ हाथों से ही नवजात को छुएंस्तनपान कराते समय सफाई के विशेष ध्यान रखेंस्तनपान कराने से पहले हाथों को 40 सेकेण्ड तक अवश्य धोएंइसके साथ ही स्तनपान कराते समय नाक व मुंह पर मास्क लगायेंयदि माँ को कोविड संक्रमण की पुष्टि हो गयी है तो नाक व मुंह पर मास्क जरूर लगायें,  इसके अलावा जिस सतह पर बैठ कर स्तनपान करा रही हों उसे भी साफ रखें या सेनिटाइज करेंयदि किसी कारणवश माँ बीमार है और स्तनपान कराने में असमर्थ है तो परिवार के सदस्यों के सहयोग से दूध को साफ़ हाथों से कटोरी में निकाल कर चम्मच से पिलायें,  यदि माँ के लिए बिलकुल संभव नहीं है तो डाक्टर से सलाह लेंहर माह बच्चे का वजन कराएँ और मातृ शिशु सुरक्षा कार्ड में अंकित करवाएं आदि विषयों के बारे में जानकारी दी जाएगी।

Related posts

Leave a Comment