जिलाधिकारी ने चीनी मिल प्रतिनिधियों के साथ की बकाया गन्ना मूल्य भुगतान की समीक्षा, भुगतान की डेडलाईन तय

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. ने जनपद की चीनी मिलों के अधिकारियों के साथ आयोजित गन्ना मूल्य भुगतान की समीक्षा बैठक अवशेष गन्ना मूल्य का भुगतान करने के निर्देश दिये।ं जिला गन्ना अधिकारी डा.आर.डी.द्विवेदी ने डीएम को जिला द्वारा जनपद की चीनी मिलों के अवशेष गन्ना मूल्य भुगतान की स्थिति से अवगत कराया।
जिला गन्ना अधिकारी डा.आर.डी.द्विवेदी ने डीएम को बताया कि चीनी मिलवार 14 दिन पूर्व त्रिवेणी ग्रुप की चीनी मिल खतौली पर 76000 लाख रूप्ये गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा 71504.66 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 94.09 होता है। वर्तमान में केवल 4495.36 लाख रूपये का भुगतान ही अवशेष है। चीनी मिल तितावी पर 53768.38 लाख रूपयेे गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा 49451.30 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 91.97 होता है। वर्तमान में केवल 4317.08 लाख रूपये का भुगतान ही अवशेष है। बजाज हिन्दुस्थान की चीनी मिल भैसाना पर 44723.97 लाख रूपयेे गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा 11309.63 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 25.29 होता है। वर्तमान में केवल 33414.34 लाख रूपये का भुगतान ही अवशेष है। डीएसएम की चीनी मिल मंसूरपुर पर 46657.55 लाख रूपयेे गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा 42820.95 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 91.78 होता है। वर्तमान में केवल 3836.60लाख रूपये का भुगतान ही अवशेष है। चीनी मिल टिकौला पर 55138.92 लाख रूपयेे गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा शत-प्रतिशत 55138.92 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 100 होता है। वर्तमान में चीनी मिल पर गन्ना मूल्य कुछ बकाया शेष नहीं है। चीनी मिल खाईखेडी पर 20748.94 लाख रूपयेे गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा 18384.61 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 88.61 होता है। वर्तमान में केवल 2364.33 लाख रूपये का भुगतान ही अवशेष है। आईपीएल की चीनी मिल रोहाना पर 10749.26 लाख रूपयेे गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा 10304.12 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 95.86 होता है। वर्तमान में केवल 445.14 लाख रूपये का भुगतान ही अवशेष है। सहकारी क्षेत्र की चीनी मिल मोरना पर 16836.06 लाख रूपयेे गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से मिल द्वारा 10934.13 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 64.94 होता है। वर्तमान में केवल 5901.93 लाख रूपये का भुगतान ही अवशेष है। जिला गन्ना अधिकारी ने बताया कि जनपद की कुल चीनी मिलों पर 324623.10 लाख रूपये गन्ना मूल्य देय था, जिसमें से 269848.32 लाख रूपये का भुगतान कर दिया गया है, जिसका प्रतिशत 83.13 होता है। उन्होंने बताया कि अब जनपद की सभी चीनी मिलों पर बकाया गन्ना मूल्य का भुगतान 54774.78 लाख रूपये ही बकाया है।
समीक्षा में पाया गया कि चीनी मिल टिकौला द्वारा पेराई सत्र 2020-21 का शत-प्रतिशत गन्ना मूल्य भुगतान कर दिया गया त्रिवेणी चीनी मिल खतौली के उपाध्यक्ष डा.अशोक कुमार ने बताया पेराई सत्र 2020-21 का लगभग 8 करोड रू. किसानों को उपलब्ध कराये गये एग्री इनपुट से समायोजित करने के उपरान्त चीनी मिल पर अवशेष 36 करोड रू. का भुगतान 10 अगस्त 2021 तक किसानों को कर दिया जायेगा। डीएसएम चीनी मिल मन्सूरपुर के उपाध्यक्ष ने भी 10 अगस्त 2021 तक बकाया भुगतान करने का आश्वासन दिया। चीनी मिल तितावी एवं रोहाना के प्रतिनिधियों द्वारा माह अगस्त के प्रथम सप्ताह में तथा चीनी मिल खाईखेडी के प्रतिनिधि द्वारा 30 अगस्त 2021 तक सम्पूर्ण बकाया भुगतान करने का आश्वासन दिया गया। चीनी मिल खाईखेडी के प्रतिनिधि को जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि वह 15 अगस्त 2021 तक सम्पूर्ण अवशेष गन्ना मूल्य भुगतान कर दे। चीनी मिल मोरना के प्रधान प्रबन्धक ने बताया कि उनकी चीनी मिल को 8.53 करोड सब्सिडी की धनराशि यथाशीघ्र प्राप्त होने की सम्भावना हैं, जिसे गन्ना मूल्य भुगतान में उपयोग किया जायेगा। जिलाधिकारी ने चीनी मिल मोरना के प्रधान प्रबन्धक को प्रयास करके 15 अगस्त 2021 तक भुगतान कराने के निर्देश दिये। चीनी मिल भैसाना के प्रतिनिधि ने जिलाधिकारी को बताया कि चीनी मिल द्वारा चीनी बिक्री करके किसानों को गन्ना मूल्य का भुगतान कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आगामी दिनो में चीनी बिक्री बढने की सम्भावना हैं, जिससे कृषकों के भुगतान में भी तीव्रता आयेगी। जिलाधिकारी ने भैसाना के चीनी मिल प्रतिनिधि को निर्देशित किया कि चीनी बिक्री मे तेजी लाकर तथा अन्य संशाधनो से किसानों का यथाशीघ्र भुगतान सुनिश्चित करायें, अन्यथा विधिक कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। जिला गन्ना अधिकारी ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि चीनी मिल द्वारा टैगिंग आदेशों का पूर्णतः अनुपालन नही किया जा रहा है, जिस पर रोष व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने चीनी मिल प्रतिनिधि को कठोर कार्यवाही हेतु निर्देशित किया।

जिलाधिकारी ने चीनी मिलों के यूनिट हैड को निर्देशित किया कि वे प्रत्येक दशा में 15 अक्टूबर 2021 तक अपनी-अपनी चीनी मिलों के रिपेयर व मेन्टिनेंस का कार्य पूर्ण करा लें। उन्होंने पेराई सत्र 2021-22 हेतु चीनी मिलों के पेराई सत्र प्रारम्भ करने की तारीख 16 से 25 अक्टूबर 2021-22 के मध्य निर्धारित करते हुए जिला गन्ना अधिकारी को लिखित रूप में सूचित करने के निर्देश दिये।
जिला गन्ना अधिकारी ने बताया कि खतौली चीनी मिल की रिपेयर व मेंटिनेंस सम्भावित रूप से 15 अक्टूबर तक पूर्ण हो जायेगा और मिल 28 अक्टूबर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी। इसी तरह तितावी चीनी मिल का रिपेयर व मेंटिनेंस कार्य 25 अक्टूबर पूरा होकर 01 नवम्बर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी। भैसाना चीनी मिल का रिपेयर व मेंटिनेंस कार्य 15 अक्टूबर पूरा होकर 20 अक्टूबर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी। मन्सूरपुर चीनी मिल का रिपेयर व मेंटिनेंस कार्य 25 अक्टूबर पूरा होकर 25 अक्टूबर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी। टिकौला चीनी मिल का रिपेयर व मेंटिनेंस कार्य 15 अक्टूबर पूरा होकर 31 अक्टूबर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी। खाईखेडी चीनी मिल का रिपेयर व मेंटिनेंस कार्य 15 अक्टूबर पूरा होकर 04 नवम्बर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी। रोहाना चीनी मिल का रिपेयर व मेंटिनेंस कार्य 15 अक्टूबर पूरा होकर 10 नवम्बर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी। मोरना चीनी मिल का रिपेयर व मेंटिनेंस कार्य 25 अक्टूबर पूरा होकर 01 नवम्बर 2021 तक सम्भावित रूप से आरम्भ हो जायेगी।
बैठक में अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) अमित सिंह, चीनी मिल खतौली के अध्यासी डा. अशोक कुमार, चीनी मिल मन्सूरपुर के अध्यासी ए.के.दीक्षित, चीनी मिल मोरना के प्रधान प्रबन्धक, गन्ना चीनी मिल तितावी के महाप्रबन्धक धीरज कुमार, गन्ना चीनी मिल रोहाना के महाप्रबन्धक नरेश कुमार, गन्ना चीनी मिल खाईखेडी के के महाप्रबन्धक संजीव कुमार, गन्ना चीनी मिल मन्सूरपुर के महाप्रबन्धक बलधारी सिंह, गन्ना चीनी मिल भैसाना के महाप्रबन्धक देवेन्द्र कुमार मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

Related posts

Leave a Comment