कर्म और भाग्य के देवता शनि 141 दिन तक चलेगें उल्टी चाल, हर राशि पर रहेगा असर

शि.वा.ब्यूरो, जोधपुर। अरुणोदय ज्योतिष हस्तरेखा व वास्तु शोध संस्थान परामर्श कार्यालय की अध्यक्ष व डाॅ. सपना अरुण सारस्वत ने बताया कि 23 मई 2021 से 11 अक्टूबर 2021 तक शनि वक्री रहेंगे और सभी राशियो को प्रभावित करेंगे। डाॅ.सारस्वत के अनुसार शनि न्याय और कर्म व भाग्य के देवता माने गये हैं, इसीलिए इन्हे न्यायाधीश की उपाधी मिली हुई है। वे बताती है कि व्यक्तियों में अक्सर शनि को लेकर एक डर की भावना बनी रहती है, लेकिन डरने जैसी कोई बात नही है, क्योंकि अगर आपने अपने जीवन मे गलत कार्य या गलत कर्म नहीं किया है तो आपको डरने की आवश्यकता नहीं है। डाॅ. सपना अरुण सारस्वत बताती हैं कि वक्री का मतलब होता है पलट कर देखना या उल्टा घूम जाना। डाॅ. सारस्वत का मानना है कि शनि आपके किये गये पुराने कार्यो के अनुसार ही आपको परिणाम देंगे। सारस्वत बताती है की शनि वक्री होकर परिणाम देना व्यक्ति कि कुंडली पर पूर्णतया निर्भर होता है कि व्यक्ति की कुंडली मे शनि कहां और कौनसे घर मे विराजमान हैं।

मेष राशि

मेष राशि मे शनि दसवें भाव मे गोचर कर रहा है। कुछ पुराने कार्य जो टाल रहे थे, उन्हें पूरा करना पडेगा, कोई बडा निर्णय लेना पड सकता है या आपको सुनाया जा सकता है। विदेश यात्रा का योग बनेगा। विद्यार्थी अपना करियर सम्बन्धी कार्य पूर्ण करेंगे। व्यापार मे भाग्योदय होगा। मानसिक स्थिति थोडी परेशानी बढा सकती है।
उपाय – शनि मंदिर जा सकते हैं, किसी लोहे के टुकडे को तेल मे डुबाकर रखें और फिर उस तेल की सिर मे मालिश करें मानसिक स्थिति मे आराम मिलेगा।

वृषभ राशि

वृषभ राशि में शनि नवें व दसवें भाव के कर्म का फल देगा। कई दिक्कतों व परेशानियों से कार्यो मे जो बाधा हो रही थी, वह अब समाप्त होगी, परंतु थोडी दिक्कत रह सकती है। आध्यात्मिक क्षेत्र से जुडे लोगों को परेशानी नही होगी। विद्यार्थी व करियर बनाने वालों का भाग्य साथ देगा। व्यापार में कुछ सफलता मिलेगी। नये घर में प्रवेश के योग हैं। पैत्तृक सम्पति का निपटारा होगा। खर्चे भी बढ़ सकते हैं।
उपाय- आध्यात्मिक शक्ति बढायें, हनुमान चालिसा करे, चीटियों को शक्कर से जिमायें।

मिथुन राशि

मिथुन राशि वालों के लिये शनि का 141 दिन का ये सफर अच्छा रहेगा। किसी पुराने पारिवारिक मासले का समाधान होगा। शारीरिक रोग से राहत मिलेगी। विद्यार्थी करियर बना सकते हैं। व्यापार व नोकरीपेशा वालो को लाभ होगा और पहले शुरू किये गये कार्यो में प्रगति होगी।
उपाय- शनि का मंत्र जाप सुबह शाम करें। अनाथालयों में दवाई दान करें व पक्षियों को दाना दें।

कर्क राशि

कर्क राशि वालों के लिए यह शनि ग्रह केंद्र स्थान मे बैठा हुआ है, इसीलिए कुछ कार्यो में कुछ सकारात्मक परिणाम देंगे। लाभ मिलने से आत्मविश्वास बना रहेगा, लेकिन कन्फ्यूजन बना रहेगा। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा रहेगा।
उपाय –शनि मंत्र का जाप करें, चीटियों को शक्कर डालें।

सिंह राशि

सिंह राशि वालो के लिए शनि का वक्री होना उलझने बढायेगा, अचानक सन्तान को लेकर चिंता हो सकती है। नौकरीपेशा व्यक्तियों को प्रमोशन का लाभ मिलेगा। व्यापारियों के लिए परिणाम ठीक रहेंगे।
उपाय – शनि मंदिर जाकर शनि मूर्ति पर तेल चढाये।

कन्या राशि

कन्या राशि वाले ध्यान रखे की किसी भी तरह से आप किसी के साक्षी नही बने, अन्यथा नुकसान की सम्भावना है। कोई बडा निर्णय नहीं लें, तकलीफ मिल सकती हैं। मित्रों से सहयोग मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग के लिए समय अच्छा रहेगा। व्यापारियों के लिए समय कुछ ज्यादा ठीक नहीं रहेगा, शनि का उपाय करें।
उपाय- शनि की मूर्ति पर तेल चढायें और बालाजी की आराधना करें।

तुला राशि

तुला राशि वालों के लिए शनि का वक्री होना बहुत अच्छा परिणाम देगा, परंतु पुरानी बीमारी उभर सकती है। विद्यार्थी वर्ग के लिए समय अच्छा परिणाम देगा। व्यापार करने वालो के लिए समय सकारात्मक परिणाम देगा। पैत्रक सम्पति पर पैसा खर्च होगा। कुल मिलाकर ये योग अच्छा परिणाम रहेगा।
उपाय- चीटियों को शक्कर दें। बालाजी की आराधना करें व दवाई दान करें।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि वालो के शनि का वक्री होना थोडा परेशान करने वाला रहेगा। उलझने बढ़ेंगी दूसरो के प्रति नकारात्मक सोचना ही आपका परिणाम खराब करेगा, इसलिए सोच सही रखें। वाणी पर संयम बनाये रखें। विद्यार्थी वर्ग के लिए समय ठीक रहेगा। व्यापारियों के लिए अच्छा रहेगा, परन्तु 141 दिन आप जितना हो सके कम ही बोले।
उपाय – शनि मंदिर जाकर शनि मूर्ति के दर्शन करें व तेल चढायें। बालाजी की आराधना करें।

धनु राशि

धनु राशि के लोगों के लिए किसी प्रकार की कोई परेशानी नही होगी, परंतु मानसिक स्थिति पर दवाब रहेगा। विद्यार्थी के लिए अच्छा रहेगा व व्यापार करने वालो के लिए अच्छा रहेगा।
उपाय – बालाजी की आराधना करें।

मकर राशि

मकर राशि के लिए शनि का वक्री होना अच्छा नही है, पर अपने ही घर में नुकसान नहीं देगा, परंतु सावधानी जरुरी है। विद्यार्थी के लिए परिणाम ठीक रहेगा। व्यापार करने के लिए समय अच्छा रहेगा।
उपाय- शनि मंत्र का जाप करें व तेल दान करें।

कुंभ राशि

कुंभ राशि वालो को पूर्व में किये गये कर्मों का फल अब 141 में मिलना प्रारंभ हो जायेगा, पैतृक सम्पत्ति का लाभ मिलेगा। विद्यार्थी व व्यापार करने वालो को लाभ मिलेगा। मित्र वर्ग से लाभ मिलेगा। खर्चे कम होंगे, सन्तान सम्बन्धी चिन्ता कम होगी। कुल मिलाकर परिणाम सकारात्मक रहेंगे।
उपाय- शनि की लगातार आराधना करें, हनुमान चालीसा का पाठ भी करें।

मीन राशि

मीन राशि वालों के शनि का वक्री होना अच्छा रहेगा, परंतु मानसिक तनाव रहेगा। कार्यों का भार रहेगा, परंतु इस राशि वाले बखूबी अपना कार्य सम्भाल लेंगे। शनि का वक्री होना सकारात्मक परिणाम देगा। विद्यार्थियों व व्यापारियों के लिए समय सही रहेगा। कोचिंग सम्बन्धी कार्य जबरदस्त सकारात्मक परिणाम देंगे।
उपाय- शनि मुर्ति पर तेल चढायें। बालाजी की आराधना करें।

Related posts

Leave a Comment