वरिष्ठ शिक्षक विनोद कुमार दुबे और राजकुमार यादव नेशनल मदर्स ब्लेस अवार्ड से सम्मानित

शि.वा.ब्यूरो, मुंबई। भारत के सभी राज्यों के 350 श्रेष्ठतम कलाकारों, साहित्यकारों, कवियों ने ऑनलाइन प्रतियोगिता में सम्मिलित होकर अपने अंदर की कलाओं को पूरी टीम के समक्ष एवं व्हाट्सएप के माध्यम से भाग लिया। सभी कलाकारों द्वारा प्रस्तुत कलाओं का अवलोकन जूरी टीम के द्वारा किया गया। इस वर्ष मदर्स डे का विषय था मेरी प्यारी मां। एसबी सागर निदेशक शोध संस्थान पिंकी देवी अध्यक्ष शांति भूषण ने बताया कि समाज में छुपी हुई प्रतिभाओं को तराशने एवं सम्मान देना इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य है।
    कार्यक्रम संयोजक ने बताया सभी प्रतिभागी को युवा संस्था द्वारा प्रमाण पत्र दिया गया। कार्यक्रम प्रभारी सुनील कुमार ने बताया कि मां के कदमों में जन्नत होती है। उनकी सेवा से बढ़कर कोई सेवा नहीं होती। संस्था सचिव गया प्रसाद ने अपने प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया। ऑनलाइन प्रतियोगिता में भांडुप मुंबई  गुरु नानक विद्यालय के वरिष्ठ शिक्षक विनोद कुमार सीताराम दुबे को उनकी कविता मेरी मां के लिए राष्ट्रीय मातृ दिवस अवार्ड से सम्मानित किया गया। उन्हें विभिन्न राज्यों से कई सम्मान प्राप्त हो चुके हैं। उनके द्वारा ग्राम जुड़पुर जिला जौनपुर में मातृ दिवस पर गांव के सभी वरिष्ठ माताओं के लिए मातृ पूजन का आयोजन किया जाता है। वे माताओं के महत्व को वह सम्मान देते हैं, जो हमारी संस्कृत ने दिया है। पत्रकारिता के क्षेत्र में भी उन्होंने उल्लेखनीय कार्य किए हैं।
     राजकुमार राम लखन यादव ठाणे महानगर पालिका शिक्षा विभाग महाराष्ट्र के वरिष्ठ शिक्षक पद पर कार्यरत हैं। उनके उत्कृष्ट शैक्षणिक कार्यों को देखते हुए विभाग ने महापौर आदर्श शिक्षक पुरस्कार देकर सम्मानित किया है। इसके अलावा उन्हें राष्ट्रीय स्तर तथा राज्य स्तर पर कई सम्मान एवं पुरस्कार प्राप्त हो चुके हैं। उनका कहना है मां के बिना जीवन की उम्मीद नहीं की जा सकती। अगर मां नहीं होती तो हमारा अस्तित्व ही नहीं होता। मां अपने बच्चों के लिए कुछ भी करने के लिए तैयार रहती है। मां ही बच्चों की पथ प्रदर्शक होती है। मां का आशीर्वाद कभी खाली नहीं जाता। मां की ममता अनमोल होती है। स्वर्ग का दूसरा नाम मां है। उनके द्वारा रचित अब वे बाहें  नहीं रही को संस्थान द्वारा नेशनल मदर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया है।
जानकारों के अनुसार विनोद कुमार दुबे तथा राजकुमार यादव शिक्षा क्षेत्र के वे ध्रुव तारे हैं, जिन्होंने गरीब से गरीब छात्रों के लिए निशुल्क सेवा देकर शिक्षा के ब्रह्मांड में एक उचित स्थान दिलाने में सफलता प्राप्त की है। उनके द्वारा प्रतिवर्ष अनेक विद्यार्थी अपने सफल जीवन के मंजिल को प्राप्त करते रहते हैं। जिनके कारण शिक्षा विभाग मुंबई तथा ठाणे महाराष्ट्र में उनकी अलग पहचान प्रदर्शित होती है। नेशनल स्तरीय प्रतियोगिता में उत्कृष्ट स्थान प्राप्त होने पर मुंबई की प्रसिद्ध संस्था समन्वय संकल्प के प्रबंधक अनिरुद्ध पांडे, डॉक्टर बाबूलाल सिंह, डॉ आरएम पाल, डॉ विजय यादव, शिक्षाविद चंद्रवीर यादव , ज्योतिषाचार्य अनिल चतुर्वेदी तथा अनेक शिक्षकों एवं शैक्षणिक संस्थाओं ने बधाई एवं शुभकामनाएं प्रेषित की हैं।
बता दें कि शांति फाउंडेशन गोंडा उत्तर प्रदेश संदेश सेवा संस्थान भारत के द्वारा हर वर्ष सभी राज्यों के कलाकारों की प्रतिभा को आगे बढ़ने हेतु प्रतियोगिता का आयोजन कर बेहतर मंच प्रदान किया जाता है। इस प्रतियोगिता में विभिन्न राज्यों के कलाकार जो साहित्य, कविता, चित्रकारी,  में रुचि रखते हैं ऐसे व्यक्तियों को प्रोत्साहित करने हेतु शांति फाउंडेशन मदर्स डे के अवसर पर मदर्स डे सम्मान समारोह का आयोजन किया जाता रहा है।

Related posts

Leave a Comment