उपायुक्त अरवा राजकमल ने की कोरोना के संक्रमण कार्यों की किया समीक्षा

कार्तिक कुमार परिच्छा, सरायकेला (झारखंड )। जिला दंडाधिकारी-सह- उपायुक्त अरवा राजकमल ने गुगल मिट के माध्यम से सभी वरिष्ठ अफसरों, नोडल अधिकारियों, प्रखंड-अंचल अधिकारियों व एमओआईसी के साथ बैठक के दौरान जिले में कोरोना संक्रमण के रोक-थाम एवं संक्रमित मरीज हेतु किए जा रहे कार्यों की प्रखंडवार समीक्षा की।

उपायुक्त ने प्रखंड स्तर पर कोरोना संक्रमण के रोक थाम हेतु किए जा रहे कार्यों जैसे- टीकाकरण, कोविड जाँच, दवाई वितरण, कन्टेनमेंट ज़ोन एवं ऑक्सीजन कि उपलब्धता पर विस्तार से चर्चा करते हुए टीकाकरण एवं कोविड जाँच में प्रगति लाने हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

उपायुक्त ने निर्देश दिए कि टीकाकरण के सुपात्रों को तिथि निर्धारित करते हुए प्रतिदिन अलग-अलग पंचायत में कैम्प आयोजित कर टीका लगाए। टीकाकरण में आपेक्षित प्रगति लाने हेतु सभी पदाधिकारी व कर्मचारी आपसी समन्वय स्थापित करते हुए योजना बद्ध तरीके से कार्य करें। ग्रामीण क्षेत्रो में कोविड 19 का टीका लेने हेतु विभिन्न माध्यमो से प्रचार-प्रसार करें तथा सभी वरिष्ठ अफसरों व बीडीओ एमओआईसी सम्बंधित क्षेत्रो के भर्मण कर लोगो को टीका लेंने हेतु प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि टीकाकरण कार्य में प्रगति लाने हेतु स्थानीय जनप्रतिनिधि जैसे- ग्राम प्रधान,मुखिया, मनकी- मुंडा, वार्ड पार्षद इत्यादि का सहयोग लें। ऐसे पदाधिकारी या कर्मचारी जिन्होने कोविड 19 का टीका नहीं लिया है, वे जल्द से जल्द नजदीकी टीकाकरण केंद्र में आकर टीका लगवाए। उन्होंने कहा कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगो को कोविड 19 का टीका 14 मई से लगना है, इसके लिए सभी तैयारी ससमय पूर्ण कर ले। सभी सीएचसी, अनुमंडल अस्पताल एवं सदर अस्पताल में 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगो का टीका लगे यह सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि कोविड 19 के सेकंड डोज़ पेंडेंसी को प्राथमिकता के तौर पर समाप्त करें। दूसरा टीका के लिए सभी प्रतीक्षार्त लाभुकों को जल्द से जल्द टीका लगाना सुनिश्चित करें। संक्रमित पाए गए मरीजों के आस-पास के क्षेत्रो के लोगो का अवश्य रूपये से सैंपल टेस्ट कराए। कोविड जाँच कार्य में आवश्यक्तानुसार एएनएम एवं एमपीडब्लू को लगाए। उन्होंने कहा कि ऐसे संक्रमित मरीज जो होम आइसोलेसन में है या अस्वस्थ महसूस कर रहे है, उनसे  सम्पर्क स्थापित करते हुए ससमय दवा पॉकेट उपलब्ध कराए और कन्टेनमेंट ज़ोन एवं आस-पास के लोगो का जल्द से जल्द कोविड जाँच करें।

उपायुक्त ने निर्देश दिए कि सभी एमओआईसी सैंपल टेस्टिंग टीम गठित कर गुरुवार, शुक्रवार एवं शनिवार को विशेष कोविड जाँच कैंप आयोजित कर अधिक से अधिक लोगो का कोविड टेस्ट कराए। ग्रामीण क्षेत्रो में भी संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है। ऐसे में पंचायत स्तर पर भी सैंपल टेस्टिंग अभियान चलाकर अधिक से अधिक लोगो का कोविड जाँच करें। उन्होंने कहा कि सभी सीओ ग्राम प्रधान, मनकी-मुंडा के साथ बैठक कर अन्य जिलों राज्य से आने वाले दिहाड़ी मजदूरों कि जानकरी उपलब्ध कराने हेतु चर्चा करें। अन्य राज्य जिलों से आने वाले दिहाड़ी मजदूरों का सैंपल टेस्ट करते हुए सुरक्षा मानको से सात दिनों तक क्वारंटीन सेंटर में रखे।

उन्होंने कहा कि सभी बीडीओ एवं एमओआईसी आपसी समन्वय स्थापित करते हुए होम आइसोलेसन में रह रहे शत-प्रतिशत संक्रमित व्यक्तियों को ससमय मेडिसिन किट उपलब्ध कराए। तथा समय-समय पर संक्रमित मरीजों का कॉल एम एस जी के माध्यम से काउंसलिंग करें। उन्होंने कहा कि क्वारंटीन सेंटर हेतु चयनित भवन में सभी आवश्यक सुविधा जैसे खाना-पानी, दवा साफ-सफाई, शौचालय एवं कर्मचारियों कि पत्रिनियुक्ति प्रक्रिया को जल्द से जल्द पूर्ण कर ले।

बैठक के दौरान उपायुक्त ने सभी पदाधिकारियों से वार्ता करते हुए कहा कोरोना फाइटर के रूप में कार्यरत सभी पदाधिकारी एवं कर्मचारी अपने कर्तव्ययो के निर्वाहन ईमानदारी पूर्वक करें। उन्होंने सभी से अनुरोध किया कि कोरोना महामारी से लोगो बचाना एवं चिकित्सीय सहायता समय पर उपलब्ध करना हम सभी का उदेश्य है। इस हेतु सभी को आपसी समन्वय स्थापित करते हुए कार्य करना है।

गुगल मीट के माध्यम से आयोजित समीक्षा बैठक में उपायुक्त के अलावा उप विकास आयुक्त‌ प्रवीण कुमार गागराई, नगर आयुक्त आदित्यपुर गिरजा शंकर, अपर उपायुक्त सुबोध कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी सरायकेला रामकृष्णा कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी चांडिल रंजीत लोहरा, डीआरसीएचओ डॉ जुझार मांझी, जिला जन सम्पर्क अधिकारी सुनील कुमार सिंह, सभी प्रखंड विकास अधिकारी, अंचलड़िकारी सभी एमओआईसी एवं अन्य अधिकारी मुख्य रूप से शामिल रहे।

Related posts

Leave a Comment