पंचायत चुनाव के बाद अब मिशन 2022 में जुटी माया, संगठन में भारी फेरबदल किया

शि.वा.ब्यूरो, लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में विरोधी पार्टियों द्वारा अपार धन बल की अनुचित इस्तेमाल के बावजूद बहुजन समाज पार्टी ने लगभग पूरे प्रदेश में जो रिजल्ट प्रदर्शित किया है, वह अति उत्साहवर्धक है। उन्होंने कहा कि कुछ बड़े जिलों को छोड़कर अधिकांश जिलों खासकर आगरा, मथुरा, मेरठ, बुलंदाशहर, गाजियाबाद, सहारनपुर, मुरादाबाद, हापुड़, शाहजहांपुर, कानपुर देहात, जालौन, बांदा, चित्रकूट, लखीमपुर खीरी, हरदोई, सुल्तानपुर, बलरामपुर, संत कबीर नगर, महाराजगंज, आजमगढ़, मऊ, प्रयागराज, भदोही, मिर्जापुर, चंदौली आदि में बीएसपी का प्रदर्शन बेहतरीन रहा है। बसपा सुप्रीमो ने पंचायत चुनाव के बाद संगठन में फेरबदल शुरू कर दिया है।
बसपा सुप्रीमों ने कहा कि अगर चुनाव में सब कुछ स्वतंत्र और निष्पक्ष ढंग से होता तो बीएसपी का प्रदर्शन और भी ज्यादा बेहतर होता। मायावती ने पंचायत चुनाव बाद एक बार फिर मुख्य सेक्टर प्रभारियों के दायित्वों में फेरबदल किया है। उन्होंने बड़े मंडलों में छह से सात और छोटे मंडलों में चार से पांच मुख्य सेक्टर प्रभारी नियुक्त किये हैं। इसके साथ ही हर जिलों के लिए अलग-अलग सेक्टर प्रभारियों की नियुक्ति की है।
बसपा सुप्रीमो ने पूर्वांचल में बसपा के अच्छे प्रदर्शन के बाद मुनकाद अली को पूर्वांचल के कई मंडलों की जिम्मेदारी दी है, जिसमें प्रयागराज, वाराणसी और मिर्जापुर मंडल शामिल हैं।
जानकारों की मानें तो बसपा सुप्रीमों ने अभी से मिशन 2022 की तैयारी शुरू कर दी है और उसी को ध्यान में रखकर संगठन में फेरबदल कर रही हैं। जातीय समीकरण के आधार पर मुख्य सेक्टर प्रभारियों के दायित्वों का निर्धारण किया गया है। पूर्वांचल, अवध, बुंदेलखंड, रुहेलखंड और पश्चिमी यूपी काॅडर के विश्वासपास नेताओं को जिम्मेदारियां दी गई हैं। पार्टी सूत्रों की मानें तो सेक्टर प्रभारियों को संगठन विस्तार की जिम्मेदारी दी गई है। इसके साथ ही उन्होंने मंडलीय बैठकों का दौर शुरू कर दिया है। इसमें संगठन विस्तार की समीक्षा कर रही हैं। बूथ स्तर पर संगठन को मजबूत किया जा रहा है।

Related posts

Leave a Comment