हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी के तत्वाधान में युवा साहित्य कला संवाद आयोजित

राजीव डोगरा ‘विमल’, शिक्षा वाहिनी समाचार पत्र।

हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी द्वारा रविवार 9 मई को ऑनलाइन युवा साहित्य कला संवाद का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता अकादमी के सचिव कर्म सिंह व रविता चौहान ने किया। कार्यक्रम का आयोजन युवा साहित्य कला संवाद के संपादक हितेन्द्र शर्मा ने किया।

युवा साहित्य कला संवाद में हिमाचल के युवा कवि व कवित्रियों ने भाग लिया, जिसमें की रविता चौहान जिला सिरमौर, रेखा ठाकुर जिला शिमला, प्रियंका नेगी जिला किन्नौर, उत्तम सूर्यवंशी जिला चंबा और राजीव डोगरा जिला कांगड़ा से शामिल हुए।


रेखा ठाकुर ने-
जब समय क्षण भर थम गया, कोरोना संताप, युवा यह क्या हुआ
जैसी रचनाएं सुनाकर दर्शकों को कोरोना से बचने का संदेश दिया।
जिला किन्नौर से प्रियंका नेगी ने
इंसानों की बस्ती में इंसानियत बदलती नजर आई
कविता सुनाई।
भाषा अध्यापक राजीव डोगरा ने
जिंदगी तेरा कोई पता नहीं, दिल लगाते रहेंगे, बचपन, संभाल ले खुदा, तेरा सहारा
जैसी रचनाएं प्रस्तुत की।
जिला चम्बा से उत्तम सूर्यवंशी ने
जिन्दगी जरूरी है तू मेरे लिए, कोई जमीन हो गया कोई आसमान हो गया, मेरे देश का इंसान कहाँ खो गया व चंबा जाना जरूर है
आदि रचनाएं प्रस्तुत कर सभी का मन मोह लिया।
नास्ति मातृ समो गुरु श्लोक का पाठ कर रविता चौहान ने मातृ दिवस के शुभ अवसर की सभी को बधाई देते हुए
गलत रविता कहां किरदार से परदा उठा देना
ग़जल मधुर कंठ में प्रस्तुत कर दर्शकों से वाह वाही लूटी।


कार्यक्रम संपादक हितेंद्र शर्मा ने मंच संचालन में सहयोग दिया व अपनी रचनाएं व गीत भी प्रस्तुत किया। अकादमी सचिव डॉ.कर्म सिंह ने युवाओं को प्रेरित किया कि वे अपनी संस्कृति का संरक्षण करें। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास सदैव नवोदितों को जोड़ना उन्हें प्रोत्साहित करना होता है। अकादमी साहित्य के क्षेत्र में युवाओं का सदैव उचित मार्गदर्शन करेगी। उन्होंने कार्यक्रम की सफलता के लिए सभी युवा कवि कवित्रियों को हार्दिक बधाई दी। कार्यक्रम को दर्जनों दर्शकों ने ऑनलाइन देखा। सभी ने अकादमी के कार्यों की मुक्त कंठ से प्रशंसा की।

भाषा अध्यापक गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा (कांगड़ा) हिमाचल प्रदेश

Related posts

Leave a Comment