एम्स के डायरेक्टर की चेतावनी: देश में संपूर्ण लाॅकडाउन नहीं लगा तो आयेगी कोरोना की तीसरी लहर

शि.वा.ब्यूरो, नई दिल्ली। एम्स के डायरेक्टर डाॅ. रणदीप गुलेरिया ने चेताया है कि अगर देश में कठोरता के साथ लाॅकडाउन नहीं लगाया गया तो हम सबको कोरोना की तीसरी लहर का सामना करना पड़ सकता है। उन्होंने कहा कि जैसा कि अब तक दिख रहा है और अगर आगे भी ऐसा हुआ कि वायरस मजबूत होता गया तो वह हमारे इम्यून सिस्टम को ध्वस्त कर सकता है, तब स्थिति काबू से बाहर हो जायेगी। डाॅ. रणदीप गुलेरिया ने नाइट कर्फ्यू और वीकेंड लाॅकडाउन को कोरोना की चेन तोड़ने में अपर्याप्त बताया है। वे संपूर्ण लाॅकडाउन की बात कर रहे हैं, ताकि कोरोना की चेन को तोड़ा जा सके।

डाॅ. रणदीप गुलेरिया ने इंडिया टुडे के साथ बातचीत में कहा कि कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए इसका चेन तोड़ना जरूरी है और यह तभी संभव है, जब पूरे देश में पर्याप्त समय के लिए लाॅकडाउन लगाया जाये। डाॅ. गुलेरिया ने कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए तीन उपाय सुझायें हैं, जिनमें से पहला है-अस्पतालों में इंफ्रास्ट्रक्चर को ठीक करना। दूसरा है लाॅकडाउन लगाना और तीसरा है वैक्सीनेशन।
डाॅ. गुलेरिया ने जोर देकर कहा कि अगर हम इंसानों के बीच नजदीकी संपर्क बनाना छोड़ दें तो संभव है कि वायरस की चेन को तोड़ा जा सके। उन्होंने कहा कि देश में कम से कम दो सप्ताह का लाॅकडाउन लगाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि अगर अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीन दे दिया जाये तो ऐसा संभव है कि अगर तीसरी लहर आये भी तो वह उतनी खतरनाक ना हो, जितनी की अभी की लहर खतरनाक है। गौरतलब है कि देश में प्रति दिन चार लाख के करीब संक्रमण के मामले रोज आ रहे हैं। साथ ही मृतकों की संख्या भी तीन हजार पांच सौ से अधिक है, जिसे देखते हुए पूरे देश में दहशत का माहौल है।

Related posts

Leave a Comment