कारखानों में कार्यरत श्रमिकों-कर्मचारियों को कार्य करने हेतु करना होगा इन दिशा-निर्देशो का पालन

शि.वा.ब्यूरो, मुजफ्फरनगर। सहायक श्रमायुक्त प्रतिभा तिवारी ने बताया कि उ0प्र0 श्रम विभाग के पत्र के क्रम में वर्तमान में कोविड-19 संक्रमण पुनः तीव्रगति से बढ रहा है, इसलिए यह आवश्यक हो गया कि प्रदेश में समस्त कारखानों में कार्यरत श्रमिको-कर्मचारियों को कोविड-19 संक्रमण से बचाव हेतु समुचित व्यवस्था की जाये। कोविड-19 संक्रमण से बचाव हेतु प्रदेश के समस्त कारखानों में कार्यरत श्रमिकों-कर्मचारियों को कार्यस्थल पर कार्य करने हेतु दिशा निर्देशो का अनुपालन सुनिश्चित कराने का कष्ट करे।
सहायक श्रमायुक्त प्रतिभा तिवारी ने बताया कि प्रदेश में समस्त कारखानों में जहां काफी संख्या में श्रमिको-कर्मचारियों एवं जनता का आना जाना होता हो, कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किया जायेगा तथा कोविड हेल्प डैस्क पर कोविड-19 से बचाव हेतु सामान्य जानकारी का पोस्टर लगाया जायेगा। हेल्प डेस्क पर तैनात किये जाने वाले श्रमिकों को कोविड-19 संक्रमण से बचाव हेतु सामान्य जानाकारी से अवगत कराया जायेगा। कारखानों में कार्यरत श्रमिको-कर्मचारियों के द्वारा नियमित रूप से मास्त एवं गलब्स पहना जायेगा तथा एक दूसरे से सम्पर्क करते समय 02 गज की दूरी बनाये रखने की व्यवस्था की जायेगी। समस्त कारखानों में सैनिटाइजर, थर्मल स्कैनर एवं पल्स आॅक्सीमीटर की उपलब्धता सुनिश्चित किया जायेगा। लक्षणात्मक श्रमिको के आॅक्सीजन सेचुरेशन की जांच पल्स आॅक्सीमीटर से की जायेगी। इस हेतु किसी कर्मी को आवश्यक प्रशिक्षण दिया जायेगा। जिला चिकित्सालय कों संदर्भित किया जायेगा। इसकी रीडिंग 94 प्रतिशत से कम आने पर प्रकरण मुख्य चिकित्साधिकारी, निकटस्थ सीएससी, जिला चिकित्सालय को संदर्भित किया जायेगा। प्रत्येक प्रयोग के पश्चात पल्स आॅक्सीमीटर को हाईड्रोजन पराक्साइड से विसंक्रमित किया जायेगा।
सहायक श्रमायुक्त प्रतिभा तिवारी ने बताया कि कारखानों में कार्यरत प्रत्येक श्रमिक-कर्मचारी को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने एवं इसका संक्रिय उपयोग करने हेतु प्रेरित किया जायेगा। कारखाना परिक्षेत्र में तम्बाकू उत्पादों का प्रयोग नही किया जायेगा। समस्त कारखानों में कार्यरत कोई भी श्रमिक-कर्मचारी खांसी, बुखार सांस लेने में परेशानी, गले में खरास आदि से पीडित है तो वह श्रमिक-कर्मचारी ड्यूटी पर न आये। स्वास्थ्य विभाग के राज्य टोल-फ्री नं0 1800-180-5145 या जनपदीय नियन्त्रण कक्ष को दिया जायेगा।

Related posts

Leave a Comment